February 26, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

आत्मा योजना अंतर्गत बकरी पालन एवं प्रबंध विषय पर दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित

आत्मा योजना अंतर्गत बकरी पालन एवं प्रबंध विषय पर दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.
A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

 

आत्मा योजना अंतर्गत बकरी पालन एवं प्रबंध विषय पर प्रशिक्षण शिविर का हुआ शुभारंभ

राजस्थान पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित पशु विज्ञान केंद्र झुंझुनू की ओर से उन्नत बकरी पालन प्रबंधन विषय पर आत्मा परियोजना के तहत कोलसिया के कमलनिष्ठा संस्थान के प्रांगण में दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया।केंद्र प्रभारी अधिकारी डॉ प्रमोद कुमार ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
 झुंझुनू पशु विज्ञान केंद्र झुंझुनू के प्रभारी अधिकारी डॉ प्रमोद कुमार ने बताया कि गुरुवार को कोलसिया के कमलनिष्ठा संस्थान के प्रांगण में आत्मा योजना अंतर्गत दो दिवसीय बकरी प्रबंधन विषय पर पशुपालक प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ किया गया।
कमलनिष्ठा संस्थान के संस्थापक डॉ डीपी सिंह ने सभी पशुपालकों का स्वागत किया।

केंद्र के प्रभारी अधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार ने बताया की बकरी के दूध की गुणवता मनुष्य मातृ के दुध की गुणवता के बराबर मानी गई हैं बकरी आधारित एकीकृत व कृषि प्रणाली पर जोर दिया जिसमें बकरी पालन के साथ में मुर्गी पालन, मछली पालन , केंचुआ खाद जैविक फल साग सब्जी व सहजन पेड़ के लगाना शामिल बताया और नए पशुपालकों को बकरी पालन व्यवसाय वर्ष के सितंबर के शुरुआत में फरवरी के अंत में चालू करना ज्यादा उचित रहता है केंद्र के डॉ विनय कुमार ने पशुपालकों को बकरियों में होने वाली विभिन्न बीमारियों के कारण, लक्षण व निदान के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी ।इसी दौरान कमलनिष्ठा संस्थान से सुप्यार जी, सुनीता जी व सहीराम जी मौजूद रहे।

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

 

A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.
A two-day training camp was organized on the subject of goat rearing and management under Atma Yojana.

आत्मा योजना अंतर्गत “बकरी पालन एवं प्रबंधन” विषय पर प्रशिक्षण शिविर का हुआ शुभारंभ

पशु विज्ञान केंद्र, झुंझुनू के प्रभारी अधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार ने बताया कि आज दिनांक 29 दिसम्बर 2022 को कोलसिया (आयोजन स्थल:- कमलनिष्ठा संस्थान,कोलसिया) में आत्मा योजना अंतर्गत दो दिवसीय बकरी प्रबंधन विषय पर पशुपालक प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ किया गया । कमलनिष्ठा संस्थान के संस्थापक डॉ.डीपी सिंह ने सभी पशुपालकों का स्वागत किया।

शिविर में केंद्र के प्रभारी अधिकारी डॉ प्रमोद कुमार ने बताया कि बकरी के दूध की गुणवत्ता मनुष्य के लिए माँ के दूध की गुणवत्ता के बराबर मानी गई है, उन्होंने बकरी आधारित एकीकृत कृषि प्रणाली पर जोर दिया. जिसमें बकरी पालन के साथ में मुर्गी पालन, मछली पालन, केंचुआ खाद बनाने एवं जैविक फल साग सब्जी व सहजन पेड़ के लगाने को शामिल करने के बारे में बताया और नए पशुपालकों को बकरी पालन व्यवसाय वर्ष के सितंबर के शुरूआत में अथवा फरवरी के अंत में चालू करना ज्यादा उचित होना बताया है यह जानकारी दी केंद्र के डॉ विनय कुमार ने पशुपालकों को बकरियों में होने वाली विभिन्न बीमारियों के कारण लक्षण और निदान के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी इसी दौरान कमलनिष्ठा संस्थान से श्रीमती सुप्यार, सुनीता व सहीराम मौजूद रहे

केंद्र के प्रभारी अधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार ने बताया की बकरी के दूध की गुणवता मनुष्य मातृ के दुध की गुणवता के बराबर मानी गई हैं बकरी आधारित एकीकृत व कृषि प्रणाली पर जोर दिया जिसमें बकरी पालन के साथ में मुर्गी पालन, मछली पालन , केंचुआ खाद जैविक फल साग सब्जी व सहजन पेड़ के लगाना शामिल बताया और नए पशुपालकों को बकरी पालन व्यवसाय वर्ष के सितंबर के शुरुआत में फरवरी के अंत में चालू करना ज्यादा उचित रहता है केंद्र के डॉ विनय कुमार ने पशुपालकों को बकरियों में होने वाली विभिन्न बीमारियों के कारण, लक्षण व निदान के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी ।इसी दौरान कमलनिष्ठा संस्थान से सुप्यार जी, सुनीता जी व सहीराम जी मौजूद रहे।

 

 

 

 

 

————————————————Thank You For visit——————————————————-