July 21, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

Swamitva Yojana: Digital mapping from drones

Swamitva Yojana: Digital mapping from drones

स्वामित्व योजना: ड्रोन से डिजिटल मैपिंग

स्वामित्व योजना: ड्रोन से डिजिटल मैपिंग

Swamitva Yojana: Digital mapping from drones

 

स्वामित्व योजना: ड्रोन से डिजिटल मैपिंग

ड्रोन से डिजिटल मैपिंग,स्वामित्व योजना क्रियान्वयन का पहला चरण; एक दिन पहले से आबादी क्षेत्र की चूना मार्किंग की जा रही है।

सरकार द्वारा स्वामित्व योजना के तहत राज्य के सभी जिलों में आबादी भूमि का ड्रोन के माध्यम से सर्वे किया जा रहा है। सर्वे करने के लिए कई चरण है। जीपीएस ड्रोन की मदद से एरिया सर्वे किया जाता है। इस सर्वे के माध्यम से गांव में बने हर घर की जियो टैगिंग की जाती है और प्रत्येक घर का क्षेत्रफल दर्ज किया जाता है। यह छेत्रफल दर्ज करने के बाद प्रत्येक घर को एक यूनिक आईडी प्रदान की जाती है। जो उस घर का पता भी होता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से लाभार्थी का पूरा पता डिजिटल भी हो जाता है। अब इस योजना के माध्यम से जमीन जायदाद के झगड़े में कमी आएगी। पहले गांव के नागरिकों के पास लिखित दस्तावेज नहीं होते थे। पर अब सरकार द्वारा गांव के नागरिकों को लिखित दस्तावेज मुहैया कराए जाएंगे।
सर्वे की प्रक्रिया के दौरान पंचायत समिति चिड़ावा क्षेत्र में स्वामित्व योजना क्रियान्वयन के प्रथम चरण में लांबा ग्राम पंचायत के दिलावरपुरा और नालवा में ड्रोन से डिजिटल मैपिंग का कार्य किया गया। सर्वेक्षण विभाग के दल ने लांबा, कुरैशीनगर, गोविंदपुरा, जाखड़ा और धत्तरवाला में डिजिटल मैपिंग की। विकास अधिकारी रणसिंह चौधरी ने बताया कि ड्रोन उड़ान से एक दिन पहले पंचायतीराज और राजस्व विभाग द्वारा ग्राम के आबादी क्षेत्र की चूना मार्किंग की जा रही है। जिससे कि अगले दिन ड्रोन से मैपिंग में सहुलियत रहे। उन्होंने बताया कि पंचायत समिति क्षेत्र में डिजिटल मैपिंग का कार्य 13 जनवरी 2023 तक किया जाएगा। इस मौके पर सहायक विकास अधिकारी विजेंद्र सोनी, सर्वेक्षक जसवीर सिंह, सरपंच कृष्णा कंवर, गिरदावर सुभिता, पटवारी मनोज कुमार, कनिष्ठ सहायक राधेश्याम, भरतसिंह, सीताराम, धत्तरवाला सरपंच सुनिता देवी, ग्राम विकास अधिकारी मनीष कुमार शर्मा, पटवारी विजयसिंह, सुभाषकुमार, शीशराम, उम्मेद डांगी, सत्यवीर, नंदकिशोर, विरेंद्रसिंह आदि मौजूद थे।

 

ड्रोन से डिजिटल मैपिंग:स्वामित्व योजना क्रियान्वयन का पहला चरण; एक दिन पहले से आबादी क्षेत्र की चूना मार्किंग की जा रही है।
झुंझुनूं।चिड़ावा पंचायत समिति क्षेत्र में स्वामित्व योजना क्रियान्वयन के प्रथम चरण में लांबा ग्राम पंचायत के दिलावरपुरा और नालवा में ड्रोन से डिजिटल मैपिंग का कार्य किया गया। सर्वेक्षण विभाग के दल ने लांबा, कुरैशीनगर, गोविंदपुरा, जाखड़ा और धत्तरवाला में डिजिटल मैपिंग की।विकास अधिकारी रणसिंह चौधरी ने बताया कि ड्रोन उड़ान से एक दिन पहले पंचायतीराज और राजस्व विभाग द्वारा ग्राम के आबादी क्षेत्र की चूना मार्किंग की जा रही है। जिससे कि अगले दिन ड्रोन से मैपिंग में सहूलियत रहे। उन्होंने बताया कि पंचायत समिति क्षेत्र में डिजिटल मैपिंग का कार्य 13 जनवरी 2023 तक किया जाएगा।इस मौके पर सहायक विकास अधिकारी विजेंद्र सोनी, सर्वेक्षक जसवीर सिंह, सरपंच कृष्णा कंवर, गिरदावर सुभिता, पटवारी मनोज कुमार, कनिष्ठ सहायक राधेश्याम, भरतसिंह, सीताराम, धत्तरवाला सरपंच सुनिता देवी, ग्राम विकास अधिकारी मनीष कुमार शर्मा, पटवारी विजयसिंह, सुभाषकुमार, शीशराम, उम्मेद डांगी, सत्यवीर, नंदकिशोर, वीरेंद्रसिंह आदि मौजूद थे।
सरकार द्वारा स्वामित्व योजना के तहत राज्य के सभी जिलों में आबादी भूमि का ड्रोन के माध्यम से सर्वे किया जा रहा है। सर्वे करने के लिए कई चरण है। जीपीएस ड्रोन की मदद से एरिया सर्वे किया जाता है। इस सर्वे के माध्यम से गांव में बने हर घर की जियो टैगिंग की जाती है और प्रत्येक घर का क्षेत्रफल दर्ज किया जाता है। यह छेत्रफल दर्ज करने के बाद प्रत्येक घर को एक यूनिक आईडी प्रदान की जाती है। जो उस घर का पता भी होता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से लाभार्थी का पूरा पता डिजिटल भी हो जाता है। अब इस योजना के माध्यम से जमीन जायदाद के झगड़े में कमी आएगी। पहले गांव के नागरिकों के पास लिखित दस्तावेज नहीं होते थे। पर अब सरकार द्वारा गांव के नागरिकों को लिखित दस्तावेज मुहैया कराए जाएंगे।
सर्वे की प्रक्रिया के दौरान ग्राम पंचायत के सदस्य, राजस्व विभाग के अधिकारी, गांव के जमीन मालिक तथा पुलिस की टीम मौजूद रहती है। जिससे कि लोगों की आपसी सहमति से उन्हें अपनी जमीन प्रदान की जा सके।
जमीन मालिक चूना लगाकर अपने वहक्षेत्र पर घेरा बना लेता है। इसकी तस्वीर ड्रोन से खींची जाती है। ड्रोन के द्वारा यह प्रक्रिया गांव के चक्कर लगाकर पूरी की जाती है। इसके पश्चात कंप्यूटर की सहायता से जमीन का नक्शा तैयार किया जाता है।

 

Swamitva Yojana: Digital mapping from drones
Swamitva Yojana: Digital mapping from drones

 

 

————————————————Thank You For visit——————————————————-