February 25, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

All 5 accused involved in gangster Raju Tehath arrested, weapons also recovered

All 5 accused involved in gangster Raju Tehath arrested, weapons also recovered

गैंगस्टर राजू ठेहठ कि हत्याकांड में शामिल सभी 5 आरोपी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

गैंगस्टर राजू ठेहठ कि हत्याकांड में शामिल सभी 5 आरोपी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

All 5 accused involved in the murder of gangster Raju Tehath arrested, weapons also recovered
All 5 accused involved in gangster Raju Tehath arrested, weapons also recovered
All 5 accused involved in gangster Raju Tehath arrested, weapons also recovered

 

राजस्थान के सीकर जिले में गैंगस्टर राजू ठेहठ की हत्या के बाद पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. रविवार को पुलिस महानिदेशक ने बताया कि हत्याकांड में शामिल सभी 5 आरोपी पकड़े गए हैं. साथ ही हथियार और कारतूस भी बरामद कर लिए हैं. इससे पहले सीकर के कस्बे नीम का थाना के डाबला गांव से पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया था. इसमें एक आरोपी रेकी में शामिल था जबकि दूसरे आरोपी ने फायरिंग की थी पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर राजू ठेहट हत्याकांड में पांच शूटर्स पकड़ लिए हैं, लेकिन अभी तक आगे की कडिय़ों का खुलासा नहीं हो पाया है। पुलिस का मानना है कि ठेहट की हत्या आपसी रंजिश के चलते हरियाणा से शूटर्स बुलाकर करवाई गई है। आनंदपाल गिरोह से जुड़े सुभाष बराल व अन्य की भूमिका जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगी। अब तक की जांच में यह साफ हो गया है कि हरियाणा से शूटर्स मनीष उर्फ बच्चिया ने बुलाए थे। मनीष ने भी गिरफ्तार शूटर्स के आकाओं से बात की थी। जोरावाली ढाणी निवासी मनीष उर्फ बच्चिया पुत्र पप्पूराम जाट 13 वर्ष की उम्र में ही अपराध की दुनिया में आ गया था। यह वाहन चोरी का मास्टरमाइंड है.
पुलिस महानिदेशक उमेश मिश्रा ने बताया कि हत्याकांड में शामिल सभी 5 आरोपी पकड़े गए हैं. उन्होंने बताया कि सीकर जिले के मनीष जाट और विक्रम गुर्जर पकड़े गए हैं. जबकि हरियाणा के भिवानी जिले के सतीश कुम्हार, जतिन मेघवाल और नवीन मेघवाल को भी पुलिस ने पकड़ लिया है.इसके सभी ही सभी हथियार और कारतूस भी बरामद कर लिए हैं.
वहीं राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि कल सीकर में हुए हत्याकांड के 5 आरोपियों को मय हथियार और गाड़ियों के गिरफ्तार कर लिया गया है.
इससे पहले पुलिस ने जानकारी दी थी कि 2 आरोपियों को हिरासत में लिया है. अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (क्राइम) रवि प्रकाश मेहरदा और जयपुर के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अजय पाल लांबा सीकर के लिए रवाना हो गए हैं.
लॉरेंस ग्रुप के गुर्गे ने ली हत्या की जिम्मेदारी
लॉरेंस ग्रुप के हिस्ट्रीशीटर रोहित गोदारा नाम से फेसबुक आईडी से इस हत्या की जिम्मेदारी ली गई है. इसमें जिक्र किया गया है कि आनंदपाल और बलबीर बानूड़ा की हत्या का बदला लिया है. रोहित गोदारा ने लिखा है कि मैं हत्या की जिम्मेदारी लेता हूं बदला पूरा हुआ. सवेरा न्यूज़, वारदात की जिम्मेदारी लेने वाले रोहित गोदारा फिलहाल अजरबैजान कनाडा से लॉरेस और गोल्डी की क्राइम कंपनी को ऑपरेट करता है, यह भारत में वांटेड है. दीपक टीनू को फ़रारी के दौरान शेल्टर और ग्रेनेड देने में रोहित का हाथ था.

तय थी रात गुजारने की जगह

पुलिस की अब तक की जांच में सामने आया है कि अपराधियों ने हत्या के लिए ही नहीं। भागने और पुलिस से छिपने के लिए भी जगह तय कर रखी थी। हरियाणा के तीनों अपराधियों ने पहले तो हरियाणा जाने का प्लान किया, लेकिन बाद में तय जगह पहाड़ी पर पनाह ली। मनीष और विक्रम गुर्जर हरियाणा बॉर्डर पर फार्म हाउस में छिप गए।गैंगस्टर राजू ठेहट की हत्या में शामिल दो आरोपी व एक बाल अपचारी घटना के बाद शनिवार शाम को ही गुप्त रास्तों से झुंझुनूं जिले के उदयपुरवाटी उपखंड के पौंख गांव की पहाड़ी पर पहुंच गए थे। पहाड़ी पर स्थित एक मंदिर के महंत भुजपाल दास ने पुलिस को बताया कि शनिवार देर शाम को यह तीनों लोग मंदिर में आए। लेकिन वह उनको नहीं जानता। ना ही तीनों पर शक हुआ। अंधेरा होने पर तीनों ने रात्रि में रुकने की मंशा जताई। मन्दिर में बनी प्रसादी का भोजन करवाया गया। मंदिर के दरवाजे में इनको रात्रि ठहरने का स्थान दिया। रविवार सुबह लगभग 8 बजे चाय पीकर यह रवाना हो गए। महंत ने बताया कि मंदिर में लोग आते जाते रहते हैं, इसलिए उन्हें कोई शंका नहीं हुई। रविवार सुबह घूमने की जगह पूछी। इसके बाद एक ने कहा मनसा माता मंदिर की तरफ जाएंगे व दो ने कहा पहाड़ों में ही कुंडों व अन्य स्थानों पर रहेंगे। वह मंदिर से कुछ दूरी पर ही निकले होंगे तभी गोली चलने की आवाज आई। एक ट्रैक्टर वाला मंदिर में ईंट डालने के लिए आया था। उसने जानकारी दी कि महाराज पुलिस ने किसी को पकड़ लिया तब उनको इसकी जानकारी मिली। इधर क्षेत्र में पुलिस की कड़ी नाकाबंदी की गई। अपराधियों के पकड़ में आने के बाद पुलिस ने राहत की सास ली। पुलिस ने अभी तक अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं दिखाई है। मुठभेड़ में घायल दोनों अपराधियों के पैर में गोली लगी है। इनमें से एक अपराधी के पैर से जयपुर में ऑपरेशन कर गोली निकाल दी गई है।

क्या राजू को थी हमले की आशंका ?
राजू ठेठ इसी साल जेल से छूटा था, लेकिन जेल से बाहर आने के बाद राजू ठेठ को जान से मारने की धमकियां मिली थीं, जिसके बाद उसने 9 महीने पहले यानी 23 फरवरी को राजस्थान पुलिस के आला अफसरों को ई-मेल करके सुरक्षा मांगी थी.
इतना ही नहीं, राजू ठेठ ने मेल पर भेजे प्रार्थना पत्र में साफ कहा था कि उसकी जान को खतरा है और 4 विचाराधीन केसों की तारीख पर आते-जाते वक्त उसके साथ अनहोनी हो सकती है. उसने राजस्थान पुलिस से दो सुरक्षा गार्ड मुहैया करवाने का आग्रह किया था।.
हिस्ट्रीशीटर राजू ठेहट हत्याकांडरात पौंख की पहाड़ियों के मंदिर में गुजारी….भंडारे में लिया भोजन, सुबह मुठभेड़ के बाद गिरफ्तारराजू ठेहट के हत्यारों को पकड़ना झुंझुनूं पुलिस की दूसरी बड़ी कामयाबी

 

सर्च ऑपरेशन

एसपी मृदुल कच्छावा ने कामयाबी पर कहा कि उनका उद्देश्य बेसिक पुलिसिंग को सुदृढ़ करना है। यह संभव हुआ है गश्त, नाकाबंदी, बेहतर प्लानिंग और कड़ी मेहनत से। बेहतर पुलिसिंग की वजह से अपराध पर अंकुश लगाने में मदद मिल रही है। जिले में हर पुलिस थाने में एक-दो को छोड़कर जिला स्तर, थाना स्तर पर टीमों का गठन कर सर्च ऑपरेशन शुरू किया। रातभर काटली नदी क्षेत्र और पहाड़ी क्षेत्रों में आरोपियों को पकड़ना चुनौती थी। एसपी तेजपालसिंह, सीओ नवलगढ़, एसएचओ गुढ़ा, खेतड़ी समेत पूरी जिले की पुलिस की मेहनत ने यह कामयाबी दिलाई है। आरोपियों ने सीकर शहर निकलते ही अल्टो कार छोड़ दी थी। इसके बाद क्रेटा में सवार होकर फरार हो गए। क्रेटा को भी इन्होंने सराय सुरपुरा के पास छोड़ दिया था। इसके बाद से आरोपी लगातार भाग रहे थे।

एएसपी डॉ. तेजपालसिंह ने बताया कि पुलिस की हरियाणा बोर्डर पर की गई कड़ाई काम आई। यह तीसरा मामला है, जिसमें अपराधी झुंझुनूं जिले से हरियाणा में प्रवेश नहीं कर सके और वापस आने पर पुलिस की गिरफ्त में आ गए। गुन्नू अपहरण कांड के अपराधी के बाद राजू ठेहट हत्याकांड के अपराधियों को पुलिस ने बॉर्डर पार नहीं करने दिया गया। सीकर में राजू ठेहट की हत्या कर भागे अपराधियों का इनपुट पुलिस को दोपहर करीब एक बजे उस समय मिला। आरोपियों ने बबाई में नाकाबंदी के दौरान फायरिंग की। नाकाबंदी में ग्रामीणों का भी सहयोग लिया गया। ऐसे में अपराधियों ने उदयपुरवाटी क्षेत्र का रास्ता पकड़ लिया। गुढ़ापौख के पास हरियाणा के तीनों अपराधी गाड़ी से उतर गए। मनीष और विक्रम गाड़ी लेकर हरियाणा जाने के लिए नीमकाथाना क्षेत्र में निकल गए।

साइबर इनपुट का रहा योगदान

आरोपियों के छिपने के बारे में मिली जानकारी में साइबर इनपुट का बड़ा योगदान रहा। पुलिस ने फुटेज के आधार पर आरोपियों की दिन में ही पहचान कर ली थी। ऐसे में पुलिस ने इनसे मिलने वालों पर नजर रखना शुरू कर दिया। इसी दौरान मोबाइल से हुई बातचीत से पुलिस को सुराग मिल गया। पुलिस ने रात दो बजे फार्म हाउस को घेर लिया। यहां से दोनों को गिरफ्तार कर हथियार बरामद किए गए। इसके बाद हरियाणा के तीनों आरोपियों को पहाड़ी से पकड़ा गया।

शुभकरण चौधरी ने लगाया आरोप

भाजपा नेता एवं उदयपुरवाटी से पूर्व विधायक शुभकरण चौधरी ने वीडियो जारी कर आरोप लगाया कि आरोपी पौंख गांव में जिस जगह मिले हैं वह जगह मंत्री राजेन्द्र सिंह गुढ़ा के नजदीकी रविन्द्र सिंह की है। इस जगह अवैध रूप से विस्फोटक सामग्री भी रहती है। वहीं रविन्द्र सिंह ने वीड़ियो जारी कर कहा कि आरोपी उसके घर से बल्कि तीन से चार किलोमीटर दूर पकड़े गए हैं। उन पर आरोप लगाने वालों के खिलाफ वे कोर्ट में जाएंगे। वहीं, एडीजीपी मेहरड़ा ने आरोपों को गलत बताया है।

इन शूटर्स की हुई पहचान

 

 

 

 

 

————————————————Thank You For visit——————————————————-