June 13, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

In Mandrela, on the orders of Sub-Divisional Magistrate Chidawa, the cloth shop in the main market was sealed and taken possession.

मण्ड्रेला में उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा के आदेश पर मुख्य बाजार में कपड़े की दुकान को सील कर कब्जेराज लिया

 

मण्ड्रेला में उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा के आदेश पर मुख्य बाजार में कपड़े की दुकान को सील कर कब्जेराज लिया

In Mandrela, on the orders of Sub-Divisional Magistrate Chidawa, the cloth shop in the main market was sealed and taken possession.

In Mandrela, on the orders of Sub-Divisional Magistrate Chidawa, the cloth shop in the main market was sealed and taken possession.

मण्ड्रेला में उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा के आदेश पर मुख्य बाजार में कपड़े की दुकान को सील कर कब्जेराज लिया

मण्ड्रेला कस्बे के मुख्य बाजार में शुक्रवार की दोहपर को उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा के आदेश पर एक कपड़े की विवादित दुकान को पुलिस की मौजूदगी में नायब तहसीलदार ने सील कर दिया।

जानकारी अनुसार कस्बे के मुख्य बाजार में एक विवादित दुकान है।जिसको लेकर प्रदीप कुमार रुंगटा व अशोक कुमार के बीच विवाद चल रहा है।

शुक्रवार को मजिस्ट्रेट के आदेश पर दुकान को सील किया गया है।इस सबंध में नायब तहसीलदार अर्जुनलाल मीणा ने बताया कि विवादित दुकान को लेकर कस्बे के प्रदीप कुमार रुंगटा व वार्ड 15 खेड़ी मोहल्ला बगड़ निवासी अशोक कुमार शर्मा के इस्तगासा 145/146 के आधार पर उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा के आदेश पर उक्त दुकान को कब्जेराज लेते हुए मण्ड्रेला थानाधिकारी सत्यनारायण गुर्जर सहित चिडावा सर्किक के अन्य थानों की पुलिस की मौजूदगी में उक्त दुकान को सील कर कब्जे में लेकर मण्ड्रेला पटवारी के सुपुर्द कर दी।

 

विवाद का यह है कारण –?

दोनो पक्षों के परिवादों की पुलिस जांच के बाद पेश रिपोर्ट के अनुसार विवादित दुकान कस्बा मण्ड्रेला के मुख्य बाजार में है जो काफी पुरानी है।

उक्त दुकान महावीर प्रसाद रुंगटा के पूर्वजों ने बनवाया था।1961 में भाई बंटवारे में उक्त दुकान महावीर के पिता स्वर्गीय रामकुमार रुंगटा के हिस्से आई थी।

रामकुमार के तीन बेटे रामस्वरूप रुंगटा, महावीर रुंगटा व रामचंद्र रुंगटा में से उक्त दुकान महावीर रुंगटा में आ गई।

महावीर रुंगटा का परिवार कस्बे से बाहर रहने के कारण कस्बे में कभी कभी आने के कारण मौसरे भाई प्रदीप कुमार रुंगटा को कस्बे में उनकी सम्पति में से मुख्य बाजार स्थित गेस्ट हाउस व दुकान मौखिक रूप से कहकर मौसरे भाई को सारसँभाल के लिए कहा था।2008 में महावीर प्रसाद को विश्वास में लेकर उक्त गेस्ट हाउस व दुकान की प्रदीप कुमार ने चाबी ले ली।

कुछ दिनों बाद महावीर प्रसाद की बीना सहमति के ही प्रदीप कुमार ने उक्त दुकान में कपड़े की दुकान खोल ली व उनकी पुश्तेनी हवेली जिसे गेस्ट हाउस में तब्दील किया था उसपर प्रदीप कुमार ने कब्जा कर लिया।पता। चलने पर आकर हिसाब मांगने पर उसने मना कर दिया।जिसपर 2016 में प्रदीप कुमार रुंगटा के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था।जिसका 2019 में न्यायालय ने महावीर प्रसाद के पक्ष में फैसला दिया था।

पर उसी वक्त प्रदीप कुमार ने न्यायालय में परिवाद पेश कर उक्त दुकान को पगड़ी पर लेने की बात कही थी।

29 सितंबर2022 को महावीर प्रसाद की ओर से वार्ड 15 खेड़ी मोहल्ला बगड़ निवासी अशोक कुमार शर्मा ने इस्तगासे के जरिए परिवाद दिया था कि उक्त दुकान को लेकर दोनो पक्षो में जान माल का नुकसान हो सकता है।

दुकान को लेकर कभी भी खून खराबा हो सकता है।इसी को ध्यान में रखते हुए उपखंड मजिस्ट्रेट चिड़ावा ने विवादित दुकान को सील कर सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया है।

In Mandrela, on the orders of Sub-Divisional Magistrate Chidawa, the cloth shop in the main market was sealed and taken possession.
In Mandrela, on the orders of Sub-Divisional Magistrate Chidawa, the cloth shop in the main market was sealed and taken possession.

 

mandrela mein upakhand majistret chidaava ke aadesh par mukhy baajaar mein kapade kee dukaan ko seel kar kabjeraaj liya

 

mandrellanews