March 3, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

चिड़ावा पुलिस ने 17 साल से फरार आरोपी को किया गिरफ्तार,आरोपी ने जयपुर, बेंगलूर, सूरत और अहमदाबाद में काटी फरारी

Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.
Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

 

चिड़ावा पुलिस ने 17 साल से फरार आरोपी को किया गिरफ्तार,आरोपी ने जयपुर, बेंगलूर, सूरत और अहमदाबाद में काटी फरारी Chirawa police arrested the accused who was absconding for 17 years, the accused absconded in Jaipur, Bangalore, Surat and Ahmedabad.

चिड़ावा पुलिस ने 17 साल से फरार आरोपी को किया गिरफ्तार,आरोपी ने जयपुर, बेंगलूर, सूरत और अहमदाबाद में काटी फरारी

चिड़ावा चिड़ावा पुलिस ने दहेज प्रताड़ना के मामले में 17 साल से फरार चल रहे एक आरोपी को गुजरात के सूरत से गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

सीआई विनोद सामरिया ने बताया कि एसपी देवेन्द्र कुमार बिश्नोई, एएसपी गिरधारी लाल शर्मा के मार्गदर्शन और डीएसपी शिवरतन गोदारा के सुपरविजन में वांछित अपराधियो की धरपकड़ के लिए विशेष टीम का गठन किया गया। गठित टीम ने वर्ष 2006 में दर्ज हुए दहेज प्रताड़ना के प्रकरण में 17 साल से फरार चल रहे आरोपी विकास को सूरत गुजरात से गिरफ्तार कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार परिवादिया किरण निवासी ओजटू ने दो जून 2006 में अपने पति विकास, ससुर मंदरूप और सास सरबती निवासीगण किढवाना के खिलाफ दहेज के लिए परेशान करने के सबंध में मामला दर्ज करवाया था। पुलिस ने मामले की जांच कर कोर्ट में प्रकरण पेश किया। प्रकरण में आरोपी विकास पुत्र मंदरूप सिंह जाति जाट निवासी किढवाना की तलाश सम्भावित स्थानों पर करने के बाद भी नहीं मिलने पर आरोपी विकास का धारा 299 सीआरपीसी में स्थाई गिरफतारी वारण्ट प्राप्त किया। कोर्ट में दो जुलाई 2010 को आरोपी विकास को पीओ घोषित कर दिया। पुलिस की गठित टीम ने भरसक प्रयास व तकनीकी साक्ष्यो के आधार पर आरोपी विकास को सूरत गुजरात से गिरफ्तार किया गया। आरोपी के खिलाफ सूरजगढ थाने से वर्ष 2005 में मारपीट के मामले मे स्थाई वारंट भी जारी किया हुआ था। आरोपी विकास ने पूछताछ में बताया कि 17 साल से फरारी के दौरान जयपुर, बंगलौर, अहमदाबाद, सूरत गुजरात मे रहकर ईट भट्ठों पर मजदूरी की और ट्रकों पर रहकर ड्राइवरी की। आरोपी को पूछताछ के बाद मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। आरोपी की गिरफ्तारी में आसूचना अधिकारी अमित सिहाग की विशेष भूमिका रही। पुलिस टीम में ये रहे शामिल:- विनोद सामरिया, सीआई, राजपाल एसआई, अनिल कुमार हेड कांस्टेबल, दिनेश कुमार हेड कांस्टेबल, साइबर सेल, अमित सिहाग आसूचना अधिकारी, विकास डारा कांस्टेबल, अंकित कुमार कांस्टेबल, अमित डाटिका कांस्टेबल, बाबूलाल कांस्टेबल

श्री देवेन्द्र कुमार बिश्नोई आई.पी.एस. के निर्देशानुसार, श्री गिरधारी लाल शर्मा आर.पी.एस. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक झुन्झुनू व श्री शिवरतन गोदारा आर.पी.एस. वृताधिकरी, वृत चिडावा के मार्गदर्शन मे श्री विनोद सामरिया पु.नि. थानाधिकारी चिड़ावा के निकट सुपरविजन में वांछित अपराधियो की धरपकड़ हेतु विशेष टीम का गठन किया गया। गठित टीम द्वारा वर्ष 2006 में दर्ज हुये दहेज प्रताड़ना के प्रकरण में 17 साल से फरार चल रहे उद्घोषित अपराधी (पीओ) आरोपी विकास को सूरत गुजरात से दिनांक 22.12.2023 को गिरफतार किया गया।

घटना विवरण- दिनांक 02.06.2006 को परिवादिया श्रीमती किरण निवासी ओजटू द्वारा अपने पति विकास, ससुर मंदरूप, सास सरबती निवासीगण किढवाना के खिलाफ दहेज के लिये परेशान करने के सबंध में थाना पर अभियोग संख्या 156/2006 धारा 498ए,406 भादस मे कायम करवाया था। जिस पर अनुसंधान शुरू किया गया।

पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही- प्रकरण में दौराने अनुसंधान मुल्जिमान मंदरूप व श्रीमती सरबती देवी से अनुसंधान किया जाकर पेश न्यायालय किया गया। प्रकरण में आरोपी विकास पुत्र मंदरूप सिंह जाति जाट निवासी किढवाना थाना सूरजगढ जिला झुन्झुनू की तलाश सम्भावित स्थानो पर की गयी तलाश के भरषक प्रयास करने के बावजुद अदम पतारसी होने पर आरोपी विकास का धारा 299 सीआरपीसी में स्थाई गिरफतारी वारण्ट प्राप्त किया गया। तत्पश्चात दिनांक 02.07.2010 को माननीय न्यायालय एमजेएम कोर्ट चिड़ावा द्वारा आरोपी विकास को पीओ घोषित किया गया।गठित टीम द्वारा भरसक प्रयास व तकनीकी साक्ष्यो के आधार पर आरोपी विकास पुत्र मंदरूप सिंह जाति जाट निवासी किढवाना थाना सूरजगढ जिला झुन्झुनू को दिनांक 22.12.2023 को सूरत गुजरात से गिरफतार किया गया। आरोपी पुलिस थाना सूरजगढ में वर्ष 2005 में हुई मारपीट के मामले में स्थाई वारंट जारी किया हुआ है जिसमे वांछित चल रहा है। आरोपी विकास ने पूछताछ में बताया कि 17 साल से फरारी के दौरान जयपुर, बंगलौर, अहमदाबाद, सूरत गुजरात मे रहकर ईट भट्ठो पर मजदुरी की व ट्रको पर रहकर ड्राईवरी की। आरोपी को बाद पूछताछ आज दिनांक 23.12.2023 को माननीय मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया।

विशेष भूमिका- श्री अमित सिहाग कानि 759 आसूचना अधिकारी पुलिस थाना चिड़ावा

गठित टीम-

1 श्री विनोद सामरिया पु०नि० थानाधिकारी पुलिस थाना चिड़ावा।

2 श्री राजपाल 30 नि० पुलिस थाना चिड़ावा।

3 श्री अनिल कुमार एचसी 125 पुलिस थाना चिड़ावा।

4 श्री दिनेश कुमार एचसी 81 साईबर सैल झुन्झुन्।

5 श्री अमित सिहाग कानि 759 आसूचना अधिकारी पुलिस थाना चिड़ावा।

6 श्री विकास डारा कानि 158 पुलिस थाना चिड़ावा।

7 श्री अंकित कुमार कानि 522 पुलिस थाना चिड़ावा।

8 श्री अमित डाटिका कानि 496 पुलिस थाना चिड़ावा।

9 श्री बाबूलाल कानि 1112 पुलिस थाना चिड़ावा।

गिरफतार आरोपी- विकास पुत्र मंदरूप सिंह जाति जाट निवासी किढवाना थाना सूरजगढ जिला झुन्झुनू राज०।

पुलिस अधीक्षक जिला झुन्झुनू

 

 

 

 

 

 

 

————————————————Thank You For visit——————————————————-