April 18, 2024

News & jobs

देश विदेश के हिंदी समाचारों सहित नोकरी Jobs देखें।

The idol of Lord Shri Krishna was consecrated with Veda mantras in Sheetal Goshala.

The idol of Lord Shri Krishna was consecrated with Veda mantras in Sheetal Goshala.

शीतल गोशाला में वेद मंत्रों के साथ हुई भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा

शीतल गोशाला में वेद मंत्रों के साथ हुई भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा

The idol of Lord Shri Krishna was consecrated with Veda mantras in Sheetal Goshala.

 

शीतल गोशाला में वेद मंत्रों के साथ हुई भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा The idol of Lord Shri Krishna was consecrated with Veda mantras in Sheetal Goshala.

शीतल गोशाला में वेद मंत्रों के साथ हुई भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा

मंड्रेला कस्बे के राजगढ़ रोड़ स्थित शीतल गोशाला परिसर में मंगलवार को श्री कृष्ण भगवान की मूर्ति स्थापना के लिये विधि-विधान से कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस अवसर पर हवन यज्ञ के बाद मंदिर मे श्री कृष्ण भगवान की मनमोहक मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा हुई और भगवान की महाआरती हुई। जानकारी देते हुए श्री श्याम शरण मंडल के अध्यक्ष सुशील रुंगटा ने बताया कि स्व. शंकरलालजी शर्मा की स्मृती में उनके पुत्रों भामाशाह किशनलाल शर्मा और विष्णु शर्मा की ओर से शीतल गोशाला में श्री कृष्ण भगवान की मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा समारोह आयोजित किया गया।मूर्ति प्राण-प्रतिष्ठा के बाद प्रसाद का वितरण किया गया।इस दौरान पंडित महेश शर्मा ने प्राण-प्रतिष्ठा के महत्व को समझाते हुए भगवान श्री कृष्ण की मुर्ति के पुराने संदर्भों का विवेचन किया। उन्होंने बताया धर्म ग्रंथों के अनुसार यज्ञ को बहुत ही पवित्र अनुष्ठान माना गया है। पंडित महेश ने कहा कि यज्ञ द्वारा सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करने और उस स्थान को शुद्ध करने कि लिए मंत्रों का उच्चारण किया जाता है।इतना ही नहीं यज्ञ में भाग लेने वाले लोग खुद को ईश्वर के करीब पाते है।उन्होंने कहा कि ईश्वर में आस्था रखना आवश्यक है। धार्मिक अनुष्ठान का समस्त कार्य पंडित महेश शर्मा के देख-रेख में सम्पन्न हुआ।इस अवसर पर डॉ.बी.के शर्मा,सुशील जोशी, ओमप्रकाश पुजारी,मूलचंद सैनी,सुशील रूंगटा,भामाशाह किशनलाल शर्मा और विष्णु शर्मा सहित काफी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

 

 

 

 

 

 

 

————————————————Thank You For visit——————————————————-